फूलों तले जश्न

सत्रहवीं शताब्दी के शुरू में बने इन दो ब्योबु चित्रों में लोग चेरी के फूलों के नीचे बैठ कर वसन्त ऋतु का आनन्द ले रहे हैं। महिलाएँ पुरुषों जैसे कपड़े पहन कर उस ज़माने के लोकप्रिय नाट्य का मंचन करती नज़र आती हैं। केवल महिलाओं का यह जश्न शायद बहुत सालों के गृहयुद्ध के बाद मिली शान्ति की ओर भी संकेत करती है।

फूलों तले जश्न