टोगो निर्मित क्योतो परंपरा
जापान के पारंपरिक सौंदर्य के केन्द्र क्योतो शहर में अफ़्रीका से आया एक युवा दर्जी अपने हुनर की दस्तक देने जा रहा है। 30 वर्षीय कब्रेस्सा दिअबालो अपने देश टोगो में निष्णात दर्जी कहलाते थे। कार्यक्रम में हम जानेंगे अफ़्रीका में प्राप्त कौशल को प्राचीन जापानी राजधानी में सिद्ध करने के उनके सफ़र के बारे में।
टोगो में जन्में दर्जी कब्रेस्सा दिअबालो
पारंपरिक क्योतो कपड़े और दिअबालो के कौशल से बना जैकेट
क्योतो में पारंपरिक कौशल की विरासत प्राप्त करने वाला रंगरेज़ (दाँए)। दिअबालो उनकी परिष्कृत तकनीक पर मोहित हो गये।
दिअबालो की मुलाक़ात जापानी व्यक्ति नाकासु तोशिहारु (बाँए) से होती है, जो क्योतो और टोगो को कपड़े के माध्यम से जोड़ने का प्रयास करते आ रहे हैं। दोनों ने मिलकर एक दर्जी की दुकान खोली है।