साहित्य सरिता - "मधुमक्‍खी के छत्‍ते में हाथ डालना" (भाग-2)
यह कहानी है कीटविज्ञानी एफ़ की जिन्हें विश्वविद्यालय के दिनों के साथी चिकित्सक एक विचित्र रोगी ई से मिलवाते हैं। ई के पेट में मधुमक्खियों ने छत्ता बना लिया है। इसे देख एफ चौंक जाते हैं औऱ उसके शोध की उत्सुकता में ई को अपने केन्द्र में ले आते हैं। तब उन्हें पता चलता है कि मधुमक्खियों का शरण देने वाले शरीर के साथ कैसा विचित्र संबंध है। और कहानी आश्चर्यजनक मोड़ पर अंत होती है। सुनें कहानी का दूसरा और अंतिम भाग।

कहानी के लेखक आराइ रान विज्ञान कथा की दुनिया का जाना-माना नाम हैं। वह मांगा के लिए मौलिक कहानियाँ लिखते हैं, और लघु कथा लेखन भी सिखाते हैं।