4 फ़रवरी का अंक
जापान और भारत को जोड़ते कार्यक्रम "चैरी की देश से" में इस सप्ताह आनंद लें तोक्यो स्थित भारतीय दूतावास में आयोजित क्यो-यूज़ेन रंगाई तकनीक से बनी साड़ियों की प्रदर्शनी और फ़ैशन शो पर एक विशेष रिपोर्ट का। साथ ही हैं श्रोताओं के दिलचस्प पत्रों और फ़ेसबुक टिप्पणियों पर हमारी प्रतिक्रिया।
क्यो-यूज़ेन साड़ियों की प्रदर्शनी और फ़ैशन-शो में हिस्सा ले रहीं भारतीय और जापानी महिलाएँ।
सिल्क साड़ी के कपड़े की बुनाई में ही फूल या लहर का पैटर्न होता है जिससे शोख़ रंगों की चमक और निखार बढ़ जाता है।
एदो काल के मशहूर कात्सुशिका होकुसाइ के ब्लॉक प्रिंट - “विशाल लहर” से प्रेरित साड़ी।
क्यो-यूज़ेन साड़ी परियोजना के अध्यक्ष ताकेहाना सुसुमु नवीनतम कलाकृति के साथ।