बोसाइ उपन्यास - आशा भरी कहानियाँ
कोचि प्रिफ़ैक्चर का तोसाशिमिज़ु शहर प्रशान्त महासागर के तट पर बसा है। अनुमान है कि आने वाले दिनों में इस क्षेत्र में त्सुनामि आ सकती है। इसी विषय पर वहाँ के माध्यमिक विद्यालय के बच्चों ने कहानियाँ लिखी हैं। कहानी के मुख्य किरदार बच्चे खुद हैं और जगह उनका मोहल्ला है। अन्य किरदार भी असली लोग हैं। इन कहानियों की सबसे महत्वपूर्ण शर्त यह थी कि अन्त आशावादी होना चाहिए। उपन्यास लिखते हुए बच्चों को आपदा के खतरे का अहसास हुआ। कार्यक्रम में बताएँगे कि उन्होंने खुद को और क्षेत्र को बचाने के लिए क्या उपाय सोचे। (13 मार्च, 2019 को प्रसारित अंक का पुनर्प्रसारण)
वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रशान्त महासागर से लगते जापान के तटीय क्षेत्र में अगले 30 साल में बड़ा भूकम्प आने की सम्भावना 70 से 80 प्रतिशत है। तोसाशिमिज़ु में 34 मीटर तक की ऊँची त्सुनामि आने का अंदेशा है।
युइका यासुदा (बाएँ से दूसरी)और उनकी माँ (पीछे) तथा बहनें उनकी लिखी कहानी पढ़ रही हैं।
बोसाइ उपन्यास लिखने वाले विद्यार्थी और अध्यापक
तोसाशिमिज़ु नगरपालिका शिमिज़ु माध्यमिक विद्यालय