13 मिनट 50 सेकंड

हार मान लेने की ताक़त

नगर कथा

प्रसारण तिथि 31 अगस्त 2021 उपलब्ध होगा 31 अगस्त 2022

इस अंक में आपका परिचय करवाएँगे रित्सुमेइकान एशिया प्रशांत विश्वविद्यालय के अध्यक्ष देगुचि हारुआकि से। उन्होंने 60 साल की आयु में एक वेंचर कंपनी शुरू की और अध्यक्ष पद से अलग पेशे में रहे हैं। कोरोनावायरस महामारी के बीच उन्हें पत्रिकाओं और व्याख्यानों के बड़ी संख्या में अनुरोध मिल रहे हैं। सोशल मीडिया में उनके एक लाख 30 हज़ार से भी अधिक अनुयायी हैं। इतने सारे लोग उनकी सलाह के पीछे क्यों भागते हैं?जानेंगे उनके आकर्षक व्यक्तित्व के बारे में।

photo
2018 में देगुचि हारुआकि एपीयू के अध्यक्ष पद पर अनुशंसा द्वारा पदासीन हुए।
photo
एपीयू अध्यक्ष देगुचि छात्रों के साथ। विश्वविद्यालय के लगभग आधे छात्र विदेशों से हैं। महामारी के कारण बहुत सारे छात्र कठिन परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं।
photo
देगुचि के अपार ज्ञान का स्रोत है पठन। विश्वविद्यालय के दौरान पढ़ी चार्ल्स डार्विन की किताब "जीव-जाति का उद्भव" से वह बहुत प्रभावित हुए।

कार्यक्रम की रूपरेखा