11 मिनट 50 सेकंड

दैनिक संघर्षों से जूझते इस्तेमालशुदा कारों के एक पाकिस्तानी व्यापारी

यह जो देश है मेरा

प्रसारण तिथि 29 सितम्बर 2020 उपलब्ध होगा 13 अक्तूबर 2021

जापान को अपना नया घर चुनने वाले विदेशी नागरिकों की संख्या 2019 में रिकॉर्ड 28 लाख से अधिक रही। यह जापानी जनसंख्या का करीब 2 प्रतिशत हिस्सा है। यह लोग अपने संग नयी सँस्कृति ले कर आते हैं, लेकिन फिर भी जापानी समाज में अपनी जगह बनाने हेतु संघर्ष करते हैं। यह कार्यक्रम इन विदेशियों के जीवन और जापानी समाज में इनके समक्ष चुनौतियों की एक झलक पेश करता है। एशिया और पश्चिम एशिया से 600 से भी अधिक वाहन व्यापारी इस्तेमालशुदा वाहनों की एक बड़ी नीलामी में हिस्सा लेते हैं। अच्छे सौदों की तलाश और इस देश में कुछ बड़ा हासिल करने की कोशिश में ये विदेशी निर्यातक जापान बसने आये। इनमें से एक हैं मियाँ मोहम्मद सादिक़। जानेंगे उनके दैनिक संघर्ष के बारे में। (14 जुलाई 2020 के अंक का प्रुनर्प्रसारण)

photo
तोचिगि प्रिफ़ैक्चर के ओयामा शहर में इस्तेमालशुदा ट्रकों के व्यापारी पाकिस्तानी नागरिक मियाँ मोहम्मद सादिक़।
photo
ओयामा शहर में इस्तेमालशुदा वाहनों की नीलामी में सादिक़ बोली लगाते हुए।
photo
सादिक़ सहित मुस्लिम स्वयं सेवकों ने जापान में सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक बनायी है।

कार्यक्रम की रूपरेखा