12 मिनट 53 सेकंड

आज़ेकुरा (बौद्ध सूत्रों का भण्डारगृह) (Azekura)

जापान की उत्कृष्ट कलाकृतियों की कहानी

प्रसारण तिथि 9 फ़रवरी 2017 उपलब्ध होगा 31 मार्च 2029

तोक्यो राष्ट्रीय संग्रहालय के उद्यान में एक छोटी सी चौकोर कुटिया है जिसके किनारे लगभग 1.8 मीटर लंबे हैं। इसे आज़ेकुरा कहलाए जाने वाली शैली में बनाया गया है। 8वीं सदी से भण्डारगृहों को इस शैली में बनाया जाता था जिसमें लकड़ी के तिकोने टुकड़ों को एक के ऊपर एक रखा जाता था। तोक्यो राष्ट्रीय संग्रहालय का आज़ेकुरा 13वीं सदी का है और यह पहले नारा के एक मंदिर में हुआ करता था। लेकिन 19वीं सदी के उत्तरार्ध में इसे तोक्यो के नवनिर्मित संग्रहालय ले आया गया। यह वह दौर था जब जापान के कई हिस्सों में बौद्ध इमारतों और कलाकृतियों को नष्ट किया जा रहा था क्योंकि सरकारी नीति के अंतर्गत शिन्तो को राष्ट्रीय धर्म का दर्जा दे दिया गया था। इन परिस्थितियों को देखते हुए हिसानारि माचिदा ने प्राचीन पारंपरिक धरोहरों को संरक्षित करने और एक संग्रहालय के निर्माण की अपील की। अपनी यूरोप यात्रा के दौरान माचिदा ने आधुनिक राष्ट्र में संग्रहालयों की भूमिका के बारे में जाना और उनके नेतृत्व में जापान की सांस्कृतिक धरोहरों के संरक्षण का काम आगे बढ़ा। इन कठिन परिस्थितियों में बचाई गईं बहुमूल्य वस्तुओं में यह छोटा आज़ेकुरा भी शामिल था।

photo

कार्यक्रम की रूपरेखा