16 मिनट 50 सेकंड

काइताइ शिनशो (पाश्चात्य शरीर रचना विज्ञान की किताब) (Kaitai Shinsho 解体新書)

जापान की उत्कृष्ट कलाकृतियों की कहानी

प्रसारण तिथि 1 अक्तूबर 2015 उपलब्ध होगा 31 मार्च 2029

इस बार की कहानी हमें ले जाती है 18वीं सदी के अंत के एदो यानी आज के तोक्यो में, जहाँ चिकित्सकों के एक दल को डच भाषा में लिखी किताब हासिल होती है। इस किताब में शरीर की आंतरिक संरचना के बारे में जो जानकारी मौजूद है, वो जापान में चली आ रही प्राचीन चीनी चिकित्सा की धारणा से बिल्कुल अलग है। चिकित्सक आश्चर्य में पड़ जाते हैं और किताब में दिए गए चित्रों की सटीकता की पुष्टि के लिए वास्तविक चीर-फाड़ करते हैं। उसके बाद ये दल किताब को डच भाषा से जापानी में अनुवाद करने का निश्चय करता है। ये काम “बिना चप्पू और बिना पतवार की नाव में सवार होकर समुद्र में निकलने” जैसा था। 5 खंडों वाला संग्रह, काइताइ शिनशो – शरीर रचना विज्ञान पर नए लेख, साढे तीन साल में पूरा हुआ। ये जापान में पाश्चात्य शरीर रचना विज्ञान पर ऐसा पहला संग्रह था जिसे बहुत से लोगों ने पढ़ा। कार्यक्रम में हम एक ऐसे युग में नए ज्ञान के लिए उन लोगों के प्रबल संघर्ष के बारे में जानेंगे, जब बाहर की दुनिया के साथ संपर्क कड़ाई से नियंत्रित थे। ये बात है जापान द्वारा अपने देश के दरवाज़े दुनिया के लिए खोलने से करीब एक सौ साल पहले की।

photo

कार्यक्रम की रूपरेखा