09 मिनट 09 सेकंड

सुंदर लिखाई का करें प्रयास! 'शोशा' की कक्षा

अनोखे स्कूल जापान के

प्रसारण तिथि 23 जनवरी 2022 उपलब्ध होगा 31 मार्च 2023

जापान में प्राथमिक विद्यालय से लेकर उच्चतर विद्यालय तक सुलेखन की कक्षा होती है। छोटी कक्षा के छात्र पेंसिल व क़लम से और तीसरी कक्षा से ऊपर के छात्र पारंपरिक लेखन सामग्री ब्रश व स्याही का प्रयोग करते हुए बड़े अक्षर लिखने का प्रयास करते हैं। सीधे बैठकर नमूने को ध्यान से देखते हुए एक-एक अक्षर को उचित संतुलन के साथ लिखने का अभ्यास किया जाता है। जापान में सुंदर लिखाई पर बल दिया जाता है। जापानी विद्यालयों की विशिष्ट गतिविधि 'शोशा' के पाठ्यक्रम से आपका परिचय करवाएँगे।

photo
photo
ब्रश के साथ सुलेख अभ्यास कर रहा दूसरी कक्षा का छात्र
photo
स्कूली छात्र द्वारा की गयी कैलीग्राफ़ी के चित्र। ब्रश द्वारा सुलेखन (बाएँ), क़लम से की गयी कैलीग्राफ़ी (दाएँ)

कार्यक्रम की रूपरेखा