दक्षिण कोरिया के नेता प्रतिपक्ष होंगे 36 वर्षीय युवा

दक्षिण कोरिया के मुख्य विपक्षी दल ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय से शिक्षित 36 वर्षीय कम्प्यूटर विशेषज्ञ को अपना नया नेता चुना है। उन्हें सांसद बनने का कोई पूर्वानुभव नहीं है।

पीपुल्स पॉवर पार्टी यानि पीपीपी ने नये नेता के चयन के लिए शुक्रवार को एक अधिवेशन आयोजित किया। ई जुनसोक ने पार्टी के नेतृत्व के लिए चार वरिष्ठ और स्थापित नेताओं को मात दी।

अपने विजयी भाषण में ई ने कहा कि “हमारा सबसे बड़ा लक्ष्य राष्ट्रपति चुनाव जीतना है। मैं एक ऐसी पार्टी निर्मित करने के लिए मेहनत करूँगा जहाँ राष्ट्रपति पद के विभिन्न उम्मीदवार और उनके समर्थक एक साथ रह सकें।”

हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने के बाद, 2011 में पाक कुने ने उन्हें पार्टी में शामिल किया था। पाक बाद में दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति बने। ई एक रूढ़िवादी दल में शामिल हो गये जो बाद में पीपीपी बनी। इन वर्षों में कई महत्त्वपूर्ण राजनैतिक सुधारों के आह्वानों से उन्होंने जनता में अपनी छवि चमकायी है।

40 साल से कम उम्र के होने के कारण ई राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनावों हेतु पीपीपी को एक दमदार दावेदार की तलाश है।