एशिया-प्रशांत क्षेत्र में सहयोगियों की तलाश में नाटो

नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने इंगित किया है कि चीन का मुकाबला करने के लिए नाटो को जापान जैसे साझा मूल्यों वाले मित्र देशों के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने की आवश्यकता है।

अगले सप्ताह होने वाले नाटो शिखर सम्मेलन से पहले स्टोल्टेनबर्ग ने अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन से सोमवार को व्हाइट हाउस में मुलाक़ात की।

बैठक के बाद स्टोलटेनबर्ग ने संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने रूस, चीन और साइबर हमले के ख़तरों सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

स्टोलटेनबर्ग ने कहा, "हमें नाटो को मज़बूत करने की ज़रूरत है और हम ऐसी सुरक्षा चुनौतियों का सामना कर रहे हैं जिनका कोई भी सहयोगी अकेले सामना नहीं कर सकता, इसलिए हमें एक दूसरे का साथ देने की आवश्यकता है।"

चीन के बारे में पूछे जाने पर नाटो प्रमुख ने कहा, "हमारे और उनके मूल्यों में समरूपता नहीं है।"

उन्होंने कहा कि "हमें अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था पर आधारित नियमों के लिए खड़े होने की ज़रूरत है और हमें अन्य सहयोगियों सहित एशिया-प्रशांत क्षेत्र में ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड, दक्षिण कोरिया तथा जापान के साथ और घनिष्ठता से काम करने की आवश्यकता है।"

रूस पर बोलते हुए स्टोलटेनबर्ग ने उक्रेन जैसे मुद्दों से निपटने के लिए नाटो सहयोगियों के बीच सहयोग का महत्त्व स्वीकारा। उन्होंने कहा, "हमें रूस के साथ संबंधों के इस कठिन दौर से निकलने की आवश्यकता है।"