यूनिसेफ़ ने की म्यांमार के विद्यालयों पर हमलों की निंदा

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यानि यूनिसेफ़ ने बताया है कि म्यांमार के विद्यालयों में विस्फोटों की संख्या में तेज़ वृद्धि हुई है। 1 फ़रवरी को हुए तख़्तापलट के बाद से पिछले चार महीनों में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारी और सेना इन विस्फोटों के लिए एक-दूसरे को दोषी ठहराते आये हैं।

यूनिसेफ़ म्यांमार ने बृहस्पतिवार को फ़ेसबुक पर बताया कि 1 फ़रवरी से 31 मई के बीच विद्यालयों और विद्यालयों के कर्मियों पर कम से कम 54 हमले हुए हैं। उसके अनुसार कम से कम 39 हमले मई माह में हुए।

संयुक्त राष्ट्र की इस एजेंसी ने बताया कि इसी अवधि के दौरान सेना द्वारा शैक्षणिक प्रतिष्ठानों का उपयोग किये जाने के 141 मामले दर्ज किये गए।

एजेंसी ने म्यांमार में सभी पक्षों से आह्वान किया है कि वे शैक्षणिक केन्द्रों की सुरक्षा को प्राथमिकता दें।

म्यांमार में कोरोनावायरस उपायों के तहत देश-भर में बंद विद्यालयों को सेना ने फिर से खोल दिया है। लेकिन कई शिक्षक और छात्र सैन्य शासन के विरोध में कक्षाओं में लौटने से इन्कार कर रहे हैं।