विश्मा सन्दामाली के लिए शोक सभा आयोजित

जापान के एक आव्रजन सेवा केंद्र में मार्च में हिरासत में मरने वाली श्रीलंकाई महिला के लिए मध्यवर्ती तोक्यो के एक बौद्ध मंदिर में शोक सभा आयोजित की गयी। इस सभा में लगभग 400 लोगों ने भाग लिया।

विश्मा सन्दामाली के परिजनों और उनके समर्थकों ने एक वेदी पर पुष्प अर्पित करते हुए शांति प्रार्थना की तथा पुजारियों ने जापानी और श्रीलंकाई भाषाओं में मंत्रोच्चार किया।

33 वर्षीया विश्मा ने मध्य जनवरी में ख़राब स्वास्थ्य की शिकायत की थी लेकिन अस्पताल न ले जाकर प्रतिष्ठान के भीतर ही उसका चिकित्सकों से उपचार करवाया गया था।

आव्रजन सेवा एजेंसी इस बात की जाँच कर रही है कि उनके मामले में सही प्रक्रिया का पालन किया गया था या नहीं।

विश्मा के परिवार ने न्याय मंत्री कामिकावा योको के साथ एक बैठक में विश्मा की मौत की परिस्थितियों का विवरण देने तथा हिरासत के दौरान उसका वीडियो दिखाने की माँग की थी। लेकिन आव्रजन सेवा एजेंसी ने परिवार की माँग को ठुकरा दिया है।

उम्र के सातवें दशक में चल रहे एक व्यक्ति ने कहा कि जापान सरकार को अप्रवासन नियमों से जुड़े मुद्दों और लोगों के साथ हिरासत में होने वाले बर्ताव को गंभीरता से लेना चाहिए।