जापान ने किये म्यांमार के लोगों को देश में रहने देने के उपाय

म्यांमार में जारी सैन्य कार्रवाइयों के मद्देनज़र जापान के आव्रजन अधिकारियों ने म्यांमार के नागरिकों को अपने जापान निवास को एक वर्ष तक के लिए बढ़ाने की अनुमति देने का निर्णय लिया है।

जापान की आप्रवासन सेवा एजेंसी ने म्यांमार के उन लोगों के लिए ये आपात उपाय अपनाये हैं जो वीसा अवधि समाप्त होने के बाद भी जापान में रहना चाहते हैं।

इन उपायों के तहत वर्तमान में जापान में रहने वाले म्यांमार के लगभग 35,000 नागरिकों को 6 महीने या 1 वर्ष अधिक रहने की अनुमति होगी। ये लोग जापान में काम करने की अनुमति भी प्राप्त कर सकेंगे। एजेंसी का कहना है कि ये उपाय 28 मई से लागू होंगे। यदि म्यांमार में स्थिति में सुधार नहीं होता, तो इन उपायों को बढ़ाया भी जा सकता है।

इसके अंतर्गत शरणार्थी आवेदनों को प्राथमिकता दी जाएगी। शरणार्थी दर्जा न दिये जाने की स्थिति में निवासी दर्जा दिया जाएगा।

सैद्धांतिक रूप से अधिकारी उन लगभग 600 लोगों को जापान में रहने की अनुमति देंगे जो वीसा अवधि समाप्त होने के बाद भी देश में रह रहे हैं। उनका कहना है कि गंभीर अपराधों में शामिल लोगों को रहने की अनुमति नहीं दी जाएगी, लेकिन उन्हें जापान से निर्वासित नहीं किया जाएगा।

एजेंसी का यह भी कहना है कि तोक्यो स्थित म्यांमार दूतावास के दो राजनयिकों का निवास दर्जा वैध रहेगा। इससे पहले दूतावास ने जापान सरकार को बताया था कि उक्त राजनयिकों के पासपोर्ट रद्द कर दिये गए हैं।