अमरीका और ईरान ने परमाणु समझौते पर अपरोक्ष वार्ता की बहाल

अमरीका और ईरान ने 2015 के परमाणु समझौते को बहाल करने के लिए अपरोक्ष वार्ताएँ दुबारा शुरू कर दी हैं।

दोनों पक्षों ने मंगलवार को वियना में बातचीत दुबारा आरंभ की। अप्रैल के आरंभ से रुक-रुक कर हो रहीं वार्ताओं की मध्यस्थता यूरोपीय संघ और अन्य पक्ष कर रहे हैं।

ईरान के परमाणु स्थलों की निगरानी से संबद्ध समझौते की अवधि 24 जून तक बढ़ाये जाने पर ईरान और अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी में सहमति के एक दिन बाद यह वार्ताएँ बहाल हुई हैं। इस समझौते की समयसीमा इस माह के अंत में समाप्त होने वाली थी।

यूरोपीय संघ के एक प्रवक्ता ने पत्रकारों को बताया कि संघ निगरानी अवधि बढ़ाये जाने का स्वागत करता है "क्योंकि इससे वियना में जारी राजनयिक प्रक्रिया में सहायता मिलेगी।"

प्रवक्ता ने कहा कि "हम अपने प्रयासों को दोगुणा करेंगे ताकि जारी वार्ताओं का लक्ष्य प्राप्त किया जा सके।"

सभी पक्ष इन वार्ताओं को जल्द ही संपन्न करना चाहते हैं क्योंकि 18 जून को होने वाले ईरान के राष्ट्रपति चुनाव में अमरीका विरोधी कट्टरपंथी उम्मीदवार सबसे आगे चल रहा है।

लेकिन अमरीका और ईरान में अमरीकी प्रतिबंधों को हटाने पर मतभेद जारी हैं।