जापान संगरोध दोषियों के नामों का करेगा ख़ुलासा

जापान का स्वास्थ्य मंत्रालय कुछ ऐसे लोगों के नामों का ख़ुलासा करने जा रहा है जिन्होंने देश के कोरोनावायरस संगरोध नियमों का उल्लंघन किया है।

इन नियमों के अनुसार विदेशों से आने वाले सभी लोगों के लिए जापान में प्रवेश के बाद 14 दिनों का स्वरोपित संगरोध अनिवार्य है।

उन्हें स्मार्टफ़ोन ऐप या अन्य माध्यमों से एक संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर करने के लिए भी कहा गया है जिसमें उन्हें संगरोध अवधि के दौरान प्रत्येक दिन अपने रहने के स्थान और स्थिति की जानकारी देनी होती है।

परंतु मंत्रालय का कहना है कि लगभग 100 लोग हर दिन ऐसा करने में विफल रहे। अधिकारी अब ऐसे कुछ दोषियों के नाम ऑनलाइन प्रकाशित करने की दिशा में अंतिम चरण में हैं।

मंत्रालय ने बल देते हुए कहा है कि वह उन लोगों के नामों का ख़ुलासा करने के लिए अधिकृत है जो अपने संकल्प से पलट गये। अधिकारियों का कहना है कि वे इस चिंता के चलते ऐसा करने से अब तक बचते रहे कि लोगों को अपमान और आलोचना का शिकार होना पड़ सकता है।

दुनिया-भर में फैल रहे कोरोनावायरस के प्रकारों से निपटने के लिए मंत्रालय अपने तरीके बदलने की योजना बना रहा है। मंत्रालय संभवतः ऐसे लोगों के ही नामों का ख़ुलासा करेगा जिनके बारे में अधिकारियों को कई दिनों से कोई जानकारी न मिली हो।

पिछले ऐप की संचार व्यवस्था से संबंधित समस्याओं से निपटने के लिए मंत्रालय ने मई के मध्य में एक नया स्मार्टफ़ोन ऐप शुरू किया है।