ब्रिटेन का विमानवाहक पोत हिंद-प्रशांत की ओर रवाना

ब्रिटेन का अत्याधुनिक विमान वाहक पोत एचएमएस क्वीन एलिज़ाबेथ अपनी लगभग 7 माह लंबी विश्व यात्रा के तहत हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए रवाना हो गया है।

माना जा रहा है कि इस पोत को भेजने से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में ब्रिटेन की भागीदारी बढ़ेगी और क्षेत्र में अपनी गतिविधियाँ बढ़ा रहे चीन पर नियंत्रण पाया जा सकेगा।

ब्रिटेन सरकार ने मार्च में रणनीति और सुरक्षा पर अगले 10 वर्षों के लिए जारी किये गए एक नये नीति पत्र में इस क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने का आह्वान किया था।

नीति पत्र में अर्थव्यवस्था और सुरक्षा क्षेत्र में हिंद-प्रशांत की बढ़ती महत्तता पर बल दिया गया है। इसमें कहा गया है कि 2021 में विमान वाहक पोत वहाँ नौवहन करेगा।

एचएमएस क्वीन एलिज़ाबेथ एक स्ट्राइक समूह का नेतृत्व करेगा जिसमें एक अमरीकी विध्वंसक और नीदरलैण्ड का जहाज़ भी शामिल होगा। भूमध्य सागर से होते हुए ये जहाज़ हिंद महासागर और प्रशांत महासागर में नौवहन करेंगे।

यह पोत जापान, भारत और दक्षिण कोरिया समेत कई बंदरगाहों पर रुकेगा। यह जापान के आत्म-रक्षा बल के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास भी करेगा।

रॉयल नौसेना के प्रमुख एडमिरल टोनी रैडाकिन ने एनएचके को बताया कि यह तैनाती, मूल्यों और हितों को साझा करने वाले हमारे मित्र राष्ट्रों तथा साझेदारों के साथ ब्रिटेन की नयी क्षमता को दर्शाती है।

उन्होंने जोड़ा कि वह चीन समेत सभी देशों से आशा करते हैं कि वे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में नियमों का पालन करेंगे।