बाइडन ने घृणा अपराध क़ानून पर किये हस्ताक्षर

कोरोनावायरस वैश्विक महामारी के आरंभ होने के बाद से अमरीका में एशियाई मूल के लोगों पर हुए कई हिंसक हमलों के चलते राष्ट्रपति जो बाइडन ने घृणा अपराध विधेयक पर हस्ताक्षर कर उसे क़ानून बना दिया है।

अमरीकी संसद ने जातीय भेदभाव और पक्षपात के आधार पर होने वाले घृणा अपराधों को रोकने के लिए यह विधेयक पारित किया है।

बृहस्पतिवार को एक हस्ताक्षर समारोह में बाइडन ने कहा, "कई सदियों से एशियाई मूल के अमरीकियों, हवाई द्वीप के मूल निवासियों, प्रशांतीय द्वीपों के निवासियों, विविध और जीवंत समुदायों ने इस देश के निर्माण में योगदान किया है, लेकिन उन्हें अक्सर दबाया, भुलाया या नज़रअंदाज़ किया जाता है।" उन्होंने यह भी कहा, "ख़ामोशी सहभागिता है और हम इसमें सहभागी नहीं हो सकते। हमें आवाज़ उठानी होगी। हमें कुछ करना होगा।"

बाइडन ने ज़ोर देकर कहा कि यह क़ानून स्थानीय सरकार द्वारा पुलिस अधिकारियों के प्रशिक्षण का समर्थन करेगा।

लेकिन मानवाधिकार समूह और कड़े उपायों की माँग कर रहे हैं। उनका कहना है कि घृणा अपराध की श्रेणी में न आने वाले भेदभाव पूर्ण बर्ताव बढ़ते जा रहे हैं।