जापान व स्विट्ज़रलैण्ड की कंपनियाँ बनायेंगी हाइड्रोजन-चालित जहाज़

जापान की एक स्टार्ट-अप कंपनी ने हाइड्रोजन ईंधन सेल प्रणाली से चलने वाला यात्री जहाज़ विकसित करने के लिए स्विट्ज़रलैण्ड की एक कंपनी के साथ मिलकर काम करने का निर्णय लिया है।

एल्माटेक नामक स्विट्ज़रलैण्ड की जहाज़ निर्माता कंपनी और मित्सुइ ओएसके लाइन्स, मित्सुबिशि कॉर्पोरेशन और अन्य कंपनियों द्वारा वित्त पोषित जापानी कंपनी ई5 लैब ने बुधवार को तोक्यो में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये।

एल्माटेक, हाइड्रोजन ईंधन सेल प्रणाली से चलने वाला शून्य-उत्सर्जन इलेक्ट्रिक यात्री जहाज़ विकसित करने जा रही है। जहाज़ का ढांचा कार्बन और अन्य हल्के पदार्थों से बनाया जाएगा। कंपनी ने बताया कि ऊर्जा संचित करने के लिए जहाज़ गतिशील होने पर ऊपर की ओर उठ जाएगा।

मानक जहाज़ों की तुलना में इसके निर्माण में आने वाली लागत अधिक होगी। ई5 लैब, एल्माटेक और उन कंपनियों के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभायेगी जो जापान के आसपास के जल मार्गों के लिए उक्त जहाज़ का उपयोग करने में रुचिकर हैं।

जापान के परिवहन मंत्रालय का कहना है कि यह जापान में संचालित होने वाला पहला पूर्णतः हाइड्रोजन-चालित यात्री जहाज़ होगा।

ई5 लैब के अध्यक्ष इचिदा तोमोआकि ने बताया कि अगली पीढ़ी के लिए कार्बन-मुक़्त समाज साकार करने हेतु ऊर्जा रूपांतरण की आवश्यकता है।

अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन ने जहाज़ों से होने वाले ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कमी लाते हुए उसे वर्तमान सदी में जल्द से जल्द शून्य पर लाने का लक्ष्य रखा है।