शिन्च्यांग श्रमिक मुद्दे पर अमरीका ने यूनिक्लो की कमीज़ें रोकीं

अमरीका के सीमा शुल्क अधिकारियों ने जापान की प्रमुख परिधान कंपनी यूनिक्लो की कमीज़ों की खेप को यह कहते हुए रोक दिया कि उसने चीन के शिन्च्यांग उइघुर स्वायत्त क्षेत्र के कपास उत्पादों पर लागू आयात प्रतिबंध का उल्लंघन किया है।

अमरीका की सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा एजेंसी ने इस महीने की शुरुआत में घोषणा की थी कि लॉस एंजेलेस बंदरगाह ने जनवरी में “यूनिक्लो द्वारा आयातित सूती कपड़ों की एक खेप को रोक दिया था”। वॉशिंगटन ने बंधुआ मज़दूरी के संदेह का हवाला देते हुए पिछले दिसंबर से शिन्च्यांग से ऐसे उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है।

यूनिक्लो ने विरोध दर्ज कराते हुए कहा था कि वह कमीज़ों के लिए कच्चा माल चीन की बजाय ऑस्ट्रेलिया सहित अन्य देशों से ख़रीदती है। लेकिन अमरीका ने कंपनी द्वारा पेश प्रमाण को अपर्याप्त बताते हुए उसकी दलील खारिज कर दी। बाइडन प्रशासन शिन्च्यांग में मानवाधिकारों के उल्लंघन को लेकर आलोचनात्मक रहा है। वह कंपनियों से अपना व्यावसायिक उद्यम शिन्च्यांग से स्थानांतरित करने का आग्रह करता आ रहा है।

यूनिक्लो की संचालक कंपनी फ़ास्ट रिटेलिंग का कहना है कि वह किसी भी प्रकार की बंधुआ मज़दूरी का कड़ा विरोध करती है, और मानवाधिकारों को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है।

चीन अपने इस दावे पर अडिग है कि शिन्च्यांग में कोई भी व्यक्ति बंधुआ मज़दूर नहीं है। बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अमरीका के दावे “दादागिरी” के समतुल्य हैं।