फ़ुकुशिमा दाइनि संयंत्र नष्ट करने की योजना को मिली मंज़ूरी

जापान के परमाणु नियामकों ने तोक्यो इलेक्ट्रिक पावर कंपनी यानि टेप्को की उस योजना को स्वीकृति दे दी है जिसमें फ़ुकुशिमा दाइनि परमाणु संयंत्र के सभी चार रिएक्टर नष्ट करने की बात कही गयी है।

परमाणु नियमन प्राधिकरण ने बुधवार को टेप्को द्वारा पिछले वर्ष मई में पेश की गयी इस योजना को हरी झण्डी दी।

योजना के अनुसार रिएक्टर नष्ट करने की प्रक्रिया में 44 वर्ष लग सकते हैं। प्रयुक्त ईंधन की टंकियों में मौजूद क़रीब 10,000 परमाणु ईंधन छड़ें निकालने में 22 वर्षों से अधिक समय लगेगा जिसके बाद उन्हें पुनर्चक्रण के लिए पुनर्संसाधन कंपनियों में भेजा जाएगा।

टेप्को एक शुष्क भण्डारण प्रतिष्ठान का निर्माण भी करेगी जहाँ धातु के डिब्बों में कुछ ईंधन रखा जाएगा।

इस योजना के अनुसार रिएक्टर नष्ट करने की प्रक्रिया में क़रीब 50,000 टन रेडियोधर्मी कचरा पैदा होगा और इसकी कुल लागत ढाई अरब डॉलर से भी अधिक आएगी। हालाँकि इसमें परमाणु ईंधन के निष्कासन की लागत शामिल नहीं की गयी है।

फ़ुकुशिमा दाइनि संयंत्र दुर्घटनाग्रस्त फ़ुकुशिमा दाइइचि संयंत्र से क़रीब 12 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है।

टेप्को ने वर्ष 2019 में घोषणा की थी कि फ़ुकुशिमा प्रिफ़ैक्चर तथा अन्य पक्षों की माँग के अनुरूप फ़ुकुशिमा दाइनि के रिएक्टर नष्ट कर दिये जाएँगे।

संयंत्र संचालक प्रक्रिया आरम्भ करने के समय पर निर्णय लेने से पहले अपनी योजना के प्रति स्थानीय समर्थन हासिल करने का प्रयास करेगा।