ईरान करेगा यूरेनियम को 60 प्रतिशत तक संवर्धित

ईरान सरकार का कहना है कि वह यूरेनियम को वर्तमान की 20 प्रतिशत शुद्धता से बढ़ाकर 60 प्रतिशत तक संवर्धित करेगी। नया स्तर देश के लिए यूरेनियम शुद्धता का सर्वोच्च स्तर है तथा प्रमुख शक्तियों के साथ किये गए 2015 के परमाणु समझौते से काफ़ी अधिक है।

ईरान के विदेश उप-मंत्री अब्बास अराग़ची ने मंगलवार को ऑस्ट्रिया के वियना में कहा कि उनका देश अगले दिन से नातांज़ परमाणु प्रतिष्ठान में संवर्धन का स्तर बढ़ाएगा।

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने बताया कि ईरान ने उसे अपनी योजना के बारे में सूचित कर दिया है।

ईरान ने परमाणु समझौते का बड़ा उल्लंघन करते हुए इस वर्ष जनवरी में यूरेनियम का 20 प्रतिशत संवर्धन आरंभ किया था।

देश ने संवर्धन गतिविधियों के लिए नातांज़ में उन्नत सेन्ट्रीफ़्यूज का उपयोग भी आरंभ कर दिया जो समझौते के अंतर्गत प्रतिबंधित है।

पर्यवेक्षकों का कहना है कि ईरान के कड़े रुख़ का उद्देश्य अमरीका पर दबाव डाल कर ईरान पर से प्रतिबंध हटवाना है।

बढ़ा हुआ संवर्धन स्तर यूरेनियम की शुद्धता को 90 प्रतिशत या उससे अधिक के स्तर के निकट ले जाएगा जिससे परमाणु हथियारों में उसका उपयोग सम्भव होगा।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने मंगलवार को कहा कि यह क़दम "परमाणु वार्ताओं के प्रति ईरान की गंभीरता पर सवाल खड़े करता है" और 2015 के परमाणु समझौते के "परस्पर अनुपालन की ओर लौटने की आवश्यकता पर ज़ोर देता है।"

किंतु उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि इस सप्ताह बाद में ईरान के परमाणु समझौते पर वियना में होने वाली बैठकों में भाग लेने के अमरीका के रुख़ में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है।