ओमि ने कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को चौथी लहर की संज्ञा दी

कोरोनावायरस पर जापान सरकार की सलाहकार समिति के प्रमुख का कहना है कि जापान में संक्रमण मामलों में नवीनतम वृद्धि को चौथी लहर के रूप में वर्णित किया जा सकता है।

ओमि शिगेरु ने बुधवार को संसदीय समिति की एक बैठक में इस मुद्दे पर बात की।

ओमि ने कहा कि वायरस के उत्परिवर्तित प्रकारों के प्रसार को देखते हुए संक्रमण-रोधी कड़े उपाय त्वरित और समयोचित रूप से अपनाये जाने चाहिए।

ओसाका प्रिफ़ैक्चर की स्थिति के संदर्भ में ओमि ने कहा कि पैदल राहगीरों की संख्या में गिरावट को देखते हुए संक्रमण के नये मामलों की संख्या देर-सवेर कम हो सकती है। ग़ौरतलब है कि ओसाका में नये मामलों की दैनिक संख्या मंगलवार को पहली बार 1,000 का आँकड़ा पार कर गयी थी।

ओमि ने कहा कि सबसे बड़ी समस्या गंभीर मामलों की संख्या में संभावित वृद्धि है क्योंकि ऐसे मरीज़ों के लिए उपलब्ध बिस्तरों की संख्या सीमित है।

उन्होंने यह भी कहा कि यदि ओसाका के साथ-साथ पाँच अन्य प्रिफ़ैक्चरों में पहले से मौजूद कड़े उपाय पर्याप्त रूप से प्रभावी साबित नहीं हुए हैं, तो सरकार को कारणों का पता लगा कर यह तय करना चाहिए कि एक और आपातकाल घोषित किया जाए या मौजूदा उपायों के दायरे में और कठोर क़दम उठाये जाएँ। उन्होंने कहा कि स्पष्ट रूप से आपातकाल एक विकल्प है।