म्यांमार में सैन्य कार्रवाई जारी रहने से मृतकों की संख्या में वृद्धि

म्यांमार में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि देश की सेना द्वारा नागरिकों पर कड़ी कार्रवाई जारी रहने के चलते तख्त़ापलट विरोधी प्रदर्शनों से मरने वालों की संख्या बढ़ रही है।

मानवाधिकार समूह ने बताया कि 1 फ़रवरी को हुए तख़्तापलट के बाद से 50 बच्चों समेत 710 नागरिक मारे जा चुके हैं।

मंगलवार से एक सप्ताह का नववर्ष अवकाश आरंभ होने के बावजूद, देश के दूसरे सबसे बड़े शहर माण्डले और दक्षिणी शहर दावेइ सहित अन्य जगहों पर विरोध प्रदर्शन जारी रहे।

स्थानीय मीडिया ने देश भर में सुरक्षा बलों द्वारा गोलीबारी की ख़बर दी। पश्चिमोत्तरी क्षेत्र सागाइंग में एक 7 साल के बच्चे को कथित तौर पर गोली मार दी गयी।

आंग सान सू ची के वकीलों ने सोमवार को खुलासा किया कि उन पर अब कोरोनावायरस-रोधी नियमों के उल्लंघन का एक नया आरोप लगाया गया है।

इसका अर्थ है कि उन्हें कुल 6 अलग-अलग मामलों में आरोपित किया गया है, जो राजनीति में उनकी वापसी रोकने के लिए सेना के दृढ़ संकल्प को स्पष्ट रूप से दर्शाता है।