मत्स्य सहकारी समितियों ने प्रशोधित जल निस्तारण का किया विरोध

मत्स्य उद्योग का प्रतिनिधित्व करने वाले राष्ट्रीय संगठन के प्रमुख ने फ़ुकुशिमा दाइइचि परमाणु बिजली घर से प्रशोधित जल के समुद्र में निस्तारण के सरकारी फ़ैसले का कड़ा विरोध किया है।

राष्ट्रीय मत्स्य सहकारी समिति महासंघ के अध्यक्ष किशि हिरोशि ने मंगलवार को एक वक्तव्य जारी किया।

इसमें कहा गया है कि पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान किशि ने कड़ा विरोध व्यक्त करते हुए आह्वान किया था कि कोई निर्णय लेते समय पूरी सतर्कता बरती जाए, लेकिन इसके बावजूद योजना के संबंध में सरकार का यह निर्णय “अत्यंत खेदजनक है।”

वक्तव्य में सरकार के इस फ़ैसले को “पूरी तरह अस्वीकार्य” बताते हुए कहा गया है कि राष्ट्रीय महासंघ इस निस्तारण योजना का दृढ़तापूर्वक लगातार विरोध करता रहेगा।

इसमें सरकार से आग्रह किया गया है कि वह ज़िम्मेदारी से यह स्पष्ट करे कि उसने यह तरीका क्यों चुना, प्रतिष्ठा की क्षतिपूर्ति के लिए उसकी क्या योजना है तथा सुरक्षा के संबंध में वह देश-विदेश में लोगों को कैसे सूचित और आश्वस्त करेगी।

वक्तव्य में सरकार से फ़ुकुशिमा और समूचे जापान में मछुआरों की मदद के उपाय स्पष्ट करने का भी आग्रह किया गया है ताकि वे बिना चिंता के अपना व्यवसाय जारी रख सकें।