सुगा - प्रशोधित जल के निस्तारण का फ़ैसला टाला नहीं जा सकता

जापान के प्रधानमंत्री सुगा योशिहिदे ने कहा है कि फ़ुकुशिमा दाइइचि परमाणु बिजली घर से निकले प्रशोधित जल के निस्तारण के तरीके पर निर्णय को अब और नहीं टालना चाहिए।

सोमवार को सुगा ने निचले सदन की एक समिति को बताया कि सरकार अगले कुछ दिनों में इस मामले पर निर्णय लेगी।

क्षतिग्रस्त परमाणु बिजलीघर से निकले अपशिष्ट जल को परिसर में ही टंकियों में भंडारित किया गया है जो अगले वर्ष तक भर जाएँगी।

इस जल से अधिकांश रेडियोधर्मी पदार्थ हटाने के लिए इसे उन्नत जल प्रसंस्करण प्रणाली यानि एल्पस से प्रशोधित किया गया है लेकिन इसमें रेडियोधर्मी पदार्थ ट्रिटियम अब भी मौजूद है।

सुगा ने कहा कि 2011 के महाभूकम्प और त्सुनामि से हुए परमाणु हादसे से उबरने के लिए प्रशोधित जल का निस्तारण टाला नहीं जा सकता है।

सरकार प्रशोधित जल में शुद्ध जल मिला कर राष्ट्रीय मानक से कहीं अधिक सुरक्षित स्तर पर लाने के बाद समुद्र में इसके निस्तारण का निर्णय जल्द से जल्द मंगलवार तक लेना चाहती है।

सुगा ने स्वीकारा कि मत्स्य उद्योग से जुड़े श्रमिक और अन्य लोग अपनी साख पर आँच आने की चिंता को लेकर इसका विरोध कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार को गंभीरता से इन सबका सामना करते हुए सभी संभावित उपाय करने होंगे। इससे संकेत मिलता है कि सरकार जल निस्तारण के संबंध में अपना पक्ष मज़बूत करने के लिए देश-विदेश में विज्ञान आधारित स्पष्टीकरण देगी।