वॉशिंगटन में नाटो शिखर सम्मेलन आरंभ

वॉशिंगटन में नाटो गठबंधन का शिखर सम्मेलन आरंभ हुआ। नाटो की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर यह आयोजन किया जा रहा है।

मंगलवार से बृहस्पतिवार तक चलने वाले शिखर सम्मेलन में नेताओं से उम्मीद की जा रही है कि वे नाटो के सदस्य देशों के बीच एकता के महत्त्व और उक्रेन पर रूस के लगातार आक्रमण के मद्देनज़र उसे और अधिक सहायता प्रदान करने की आवश्यकता पर सहमत होंगे।

नाटो के महासचिव जेन्स स्टॉलटेनबर्ग ने अपने सम्बोधन में कहा, "उक्रेन पर रूसी आक्रमण कई दशकों में सबसे बड़ा सुरक्षा संकट है।" उन्होंने यह भी कहा, "उक्रेन पर रूस की जीत इसकी सबसे बड़ी कीमत और सबसे बड़ा खतरा होगा। हम ऐसा कतई नहीं होने दे सकते हैं।"

अमरीकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपने सम्बोधन में कहा, "32 राष्ट्रों के साथ आज नाटो पहले से कहीं ज़्यादा शक्तिशाली है।" उन्होंने कहा कि "युद्ध की समाप्ति के बाद उक्रेन एक स्वतंत्र और मुक्त देश बना रहेगा। रूस जीत नहीं सकेगा। उक्रेन जीतेगा।"

नाटो का कहना है कि गठबंधन की भूमिका का विस्तार करने की आवश्यकता पर सहमति बन सकती है, ताकि उक्रेन को हथियारों की आपूर्ति तथा देश के कुछ सैनिकों के लिए प्रशिक्षण सत्र किये जा सकें।