शिज़ुओका में पारा 40 डिग्री

जापान में अत्यधिक गर्मी का प्रकोप रविवार को भी जारी रहने के चलते मौसम अधिकारी जनता को तापघात के प्रति सतर्क रहने को कह रहे हैं।

तापघात के कारण पहले ही कई बुज़ुर्गों की मौत हो चुकी है।

मौसम विज्ञान एजेंसी के अनुसार प्रशांत महासागर का उच्च दाब तंत्र, पश्चिमी से पूर्वी जापान के व्यापक क्षेत्रों पर अब भी हावी है, जिसके चलते तापमान बढ़ रहा है।

मध्यवर्ती जापान के शिज़ुओका शहर में दुपहर 1:18 बजे पारा 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच गया, जो एजेंसी द्वारा 1940 में रिकॉर्ड रखना शुरू किये जाने के बाद से शहर में अब तक का सर्वोच्च तापमान है।

इस वर्ष पहली बार देश में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुँचा है। इससे पहले, पिछले वर्ष 10 अगस्त को जापान सागर तट पर स्थित इशिकावा प्रीफ़ैक्चर के कोमात्सु शहर में इतना तापमान दर्ज किया गया था।

रविवार को दिन का अधिकतम तापमान गुम्मा प्रीफ़ैक्चर के शिमोनिता नगर में 39.8 डिग्री सेल्सियस, फ़ुकुशिमा प्रीफ़ैक्चर के नामिए नगर, यामानाशि प्रीफ़ैक्चर के ओत्सुकि शहर और शिज़ुओका प्रीफ़ैक्चर के हामामात्सु शहर में 38.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम एजेंसी और पर्यावरण मंत्रालय ने तोक्यो सहित कान्तो से ओकिनावा तक के 26 प्रीफ़ैक्चरों के लिए तापघात की चेतावनी जारी की है।

लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि वे एयर कंडीशनर का इस्तेमाल करें और बेवजह घर से बाहर जाने तथा व्यायाम करने से बचें।

लोगों को सलाह दी जा रही है कि वे घरों पर बुज़ुर्गों और बच्चों का ख़ास ख़्याल रखें, क्योंकि उन्हें तापघात होने का ख़तरा ज़्यादा होता है।