गोपनीय जानकारी प्रबंधन मुद्दे पर एमएसडीएफ़ प्रमुख ने जतायी इस्तीफ़े की मंशा

हाल में ख़ुलासा हुआ है कि जापान के समुद्री आत्मरक्षा बल यानि एमएसडीएफ़ के वरिष्ठ अधिकारियों ने अयोग्य कर्मियों को गोपनीय जानकारी संभालने का ज़िम्मा सौंपा था, जिसके मद्देनज़र अब माना जा रहा है कि रक्षा मंत्रालय, वरिष्ठ अधिकारियों को दंडित करने पर विचार कर रहा है। ख़बर है कि इसके चलते एमएसडीएफ़ के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ ने इस्तीफ़ा देने की मंशा ज़ाहिर की है।

अप्रैल में मंत्रालय ने एमएसडीएफ़ विध्वंसक पोत के कप्तान को यह कहते हुए निलंबित कर दिया था कि उसने अयोग्य कर्मियों को "विशेष दर्जा प्राप्त गोपनीय जानकारी" को संभालने का ज़िम्मा सौंपा था। इसमें एक विदेशी जहाज़ से संबंधित जानकारी भी शामिल थी।

जानकार सूत्रों के अनुसार मंत्रालय की जाँच में पता चला है कि इस तरह के कई और मामले भी सामने आये, जिनमें कई अन्य जहाज़ों की जानकारी थी।

सूत्रों का कहना है कि एमएसडीएफ़ के चीफ़ ऑफ़ स्टाफ़ एडमिरल साकाइ रियो ने इस्तीफ़ा देने की मंशा व्यक्त की है।

संभावना है कि मंत्रालय इस महीने के भीतर अपनी जाँच के नतीजे जारी करते हुए दोषी कर्मियों को दंडित करेगा।

सरकारी संस्थानों के प्रमुखों को रक्षा, कूटनीति और अन्य क्षेत्रों में देश तथा जनता की सुरक्षा से संबंधित जानकारी को "गोपनीय जानकारी का विशेष दर्जा" देने का अधिकार है। ऐसी जानकारी को संभालने वाले अधिकारियों की जाँच अनिवार्य है।