श्रीलंका - विदेशी अनुसंधान जहाज़ कर पायेंगे बंदरगाहों का उपयोग

श्रीलंका के विदेश मंत्री ने एनएचके को बताया है कि उनका देश अगले साल से विदेशी अनुसंधान जहाज़ों को घरेलू बंदरगाहों का इस्तेमाल करने से नहीं रोकेगा। श्रीलंका, हिंद महासागर में सामरिक रूप से महत्त्वपूर्ण स्थान पर स्थित है।

सरकार ने जनवरी से एक साल के लिए अपने बंदरगाहों पर विदेशी अनुसंधान जहाज़ों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा रखा है। 2022 में एक चीनी निगरानी जहाज़ के बंदरगाह पर आने के बाद, भारत ने चिंता व्यक्त की थी, जिसके बाद प्रतिबंध लगाया गया था।

श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी ने कहा कि उनकी सरकार अलग-अलग देशों के लिए अलग-अलग नियम नहीं बना सकती और सिर्फ़ चीनी जहाज़ों को ही नहीं रोक सकती। उन्होंने कहा कि दूसरे देशों के बीच विवाद में, श्रीलंका किसी का पक्ष नहीं लेगा।

भारत में यह आशंका बढ़ गयी थी कि चीनी जहाज़ उसके बैलिस्टिक मिसाइल व उपग्रह प्रक्षेपणों पर नज़र रख सकता है। भारत ने श्रीलंका को अपनी चिंताओं से अवगत कराया था।

चीन ने इस बात से इन्कार किया था कि उसके जहाज़ में निगरानी क्षमता थी। लेकिन फिर भी, श्रीलंका ने विदेशी अनुसंधान जहाज़ों पर एक साल के लिए प्रतिबंध की घोषणा की थी।