सं.रा. - प्रतिबंधों के बावजूद म्यांमार ने बढ़ायी विमानन ईंधन की ख़रीद

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रतिबंधों के बावजूद म्यांमार ने पिछले वर्ष विमानन ईंधन पर अधिक धन खर्च किया, जिससे सैन्य शासन को नागरिक ठिकानों पर अंधाधुंध हवाई हमले करने में मदद मिल रही है।

म्यांमार में मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिवेदक टॉम एंड्रयूज़ ने बुधवार को रिपोर्ट जारी की, जिसमें विस्तार से बताया गया है कि सेना किस प्रकार स्वयं को वित्तपोषित करती है और हथियार प्राप्त करती है।

इसमें कहा गया है कि म्यांमार ने 2023 में अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग प्रणाली के माध्यम से कम से कम 8 करोड़ डॉलर का विमानन ईंधन ख़रीदा, जो सालाना आधार पर लगभग 30 प्रतिशत की वृद्धि है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले 6 महीनों में नागरिक ठिकानों पर सेना के हवाई हमलों में पाँच गुणा वृद्धि हुई है। ऐसा तब हुआ है जब सेना ने अपनी चौकियाँ, क्षेत्र और सैनिक, विरोधी बलों के हाथों गँवा दिये हैं।

इस रिपोर्ट में अंतरराष्ट्रीय समुदाय से प्रतिबंध कड़े करने का आह्वान किया गया है। लेकिन इसमें यह भी कहा गया है कि सेना अब व्यापारिक कंपनियों और ईंधन भंडारण टर्मिनलों सहित कई बिचौलियों के माध्यम से ईंधन ख़रीदती है, जिससे उसकी आपूर्ति शृंखला का पता लगाना मुश्किल हो जाता है।