ईयू और चीन इलेक्ट्रिक वाहन वार्ता के लिए तैयार

यूरोपीय नेता अपने वाहन विनिर्माताओं के व्यापार की सुरक्षा के लिए चीन से आने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों पर अस्थायी शुल्क लगाने की योजना बना रहे हैं। हालाँकि, उन्होंने सोमवार को कहा कि वे चर्चा के लिए तैयार हैं और दोनों पक्ष, इस सप्ताह किसी समय बातचीत करने की योजना बना रहे हैं।

यूरोपीय आयोग के अधिकारी पहले से ही सभी आयातित इलेक्ट्रिक वाहनों पर 10 प्रतिशत कर लगाते हैं। उन्होंने इस महीने की शुरुआत में घोषणा की थी कि वे चीन से आने वाले वाहनों पर 38.1 प्रतिशत तक अतिरिक्त शुल्क लगायेंगे। उन्होंने कारों के लिए चीन सरकार द्वारा दी जा रही सब्सिडी की जाँच की और इस सहायता को "अनुचित" बताया।

अधिकारियों ने कहा कि वे ब्रसेल्स में होने वाली चर्चा में "प्रभावी समाधान" की तलाश करेंगे। हालाँकि, अगर वे कोई समाधान नहीं निकाल पाते हैं, तो अगले महीने की शुरुआत में यह शुल्क लागू हो जाएगा।

जर्मनी के चांसलर ओलाफ़ शोल्ज़ ने बर्लिन में एक कार्यक्रम में कहा कि वे चीनी पक्ष की ओर से इस मामले में "महत्त्वपूर्ण प्रगति" देखना चाहते हैं।

चीन के वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि घरेलू वाहन विनिर्माताओं ने सहयोग की दिशा में "अपनी तरफ़ से सर्वश्रेष्ठ" प्रयास किया है। फिर भी, उनका मानना ​​है कि यूरोपीय कर दरें "दंडात्मक" हैं।

मंत्रालय के प्रवक्ता हे यादोंग ने कहा, "यूरोपीय पक्ष द्वारा उठाये गए प्रासंगिक क़दमों में तथ्यात्मक और क़ानूनी आधार का अभाव है। वे विश्व व्यापार संगठन के नियमों की अवहेलना करते हैं तथा निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा, वैश्विक हरित परिवर्तन और मुक्त सहयोग को कमज़ोर करते हैं।"

पिछले महीने, बाइडन प्रशासन के अधिकारियों ने घोषणा की थी कि वे चीन में बने इलेक्ट्रिक वाहनों पर शुल्क को चार गुणा बढ़ाकर 100 प्रतिशत कर देंगे। विश्लेषकों का कहना है कि यूरोप में चीनी वार्ताकारों को बड़ी रियायतें देने के लिए तैयार रहना होगा।