ताइवान - चीन को ताइवान के लोगों को दंडित करने का अधिकार नहीं

ताइवान के राष्ट्रपति लाई चिंग-ते ने कहा है कि चीन को ताइवानी लोगों को उनके अभिव्यक्ति के अधिकार का उपयोग करने के लिए दंडित करने का कोई अधिकार नहीं है।

लाई ने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने चीन के उन दिशानिर्देशों का उल्लेख किया, जिनमें ताइवान की स्वतंत्रता के "कट्टर" समर्थकों की गतिविधियों के लिए आपराधिक दंड का प्रावधान है।

पिछले शुक्रवार को जारी इन दिशानिर्देशों में कहा गया है कि देश और जनता को गंभीर नुक़सान पहुँचाने वाले लोगों को मौत की सज़ा दी जा सकती है।

लाई ने इस बात पर ज़ोर दिया कि लोकतंत्र कोई अपराध नहीं है, बल्कि तानाशाही ही वास्तविक बुराई है।

उन्होंने कहा कि पेइचिंग को ताइवान के लोगों पर सीमा पार मुक़दमा चलाने का कोई अधिकार नहीं है।

लाई ने चीन से ताइवानी प्रशासन के साथ बातचीत करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि ताइवान के मतदाताओं द्वारा चुनी गयी वैध सरकार के साथ आदान-प्रदान और बातचीत करना ताइवान जलडमरूमध्य के दोनों ओर के लोगों के कल्याण का उचित मार्ग है।

उन्होंने कहा कि यदि ऐसा नहीं किया गया तो ताइवान और चीन के बीच संबंध और अधिक ख़राब हो जाएँगे।