जापानी शोधकर्ताओं को मिला खनिज संसाधनों का विशाल भंडार

जापानी शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्हें प्रशांत महासागर स्थित देश के सुदूर पूर्वी द्वीप के निकट के जलक्षेत्र में "मैंगनीज़ नोड्यूल" नामक खनिज कंकड़-पत्थरों का भंडार मिला है।

तोक्यो विश्वविद्यालय और निप्पोन फ़ाउंडेशन ने शुक्रवार को तोक्यो में हुए संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की।

उन्होंने बताया कि अनुसंधान दल ने अप्रैल से जून तक मिनामितोरिशिमा द्वीप के निकट जापान के अनन्य आर्थिक क्षेत्र में 5,500 मीटर की गहराई पर 100 से अधिक स्थानों का सर्वेक्षण किया।

दल को एक ऐसा क्षेत्र मिला, जहाँ समुद्र तल मैंगनीज़ नोड्यूल से ढका है। उनका अनुमान है कि संसाधनों के रूप में इस्तेमाल होने वाला क़रीब 23 करोड़ टन मैंगनीज नोड्यूल ऐसी स्थिति में है, जिसे निकालना आसान है।

कंकड़-पत्थरों के रूप में मौजूद इस खनिज के विश्लेषण से पता चला है कि वह मुख्य रूप से लौह और मैंगनीज़ से बना है, और उसमें कोबाल्ट और निकल धातुएँ भी हैं, जिनका उपयोग विद्युत वाहनों की बैटरियों में किया जाता है।

दल का अनुमान है कि कोबाल्ट की मात्रा लगभग 6,10,000 टन है, जो जापान की 75 वर्षों की खपत के बराबर है, जबकि निकल की मात्रा लगभग 7,40,000 टन है, जो लगभग 11 वर्षों की खपत के बराबर है।