पुतिन - उ.कोरिया को शस्त्र देने की संभावना से इन्कार नहीं

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि वे मॉस्को और प्योंगयांग के बीच हुए समझौतों को ध्यान में रखते हुए उत्तर कोरिया को हथियारों की आपूर्ति की संभावना से इंकार नहीं करते हैं।

पुतिन और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने बुधवार को प्योंगयांग में एक संधि की थी। उत्तर कोरिया द्वारा सार्वजनिक किये गए इस समझौते के अनुसार, यदि किसी एक देश पर सशस्त्र आक्रमण के कारण युद्ध की स्थिति बनती है तो दूसरा देश सैन्य सहायता प्रदान करेगा।

पुतिन ने वियतनाम की राजधानी हानोइ में एक संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही, जहाँ वे उत्तर कोरिया की अपनी यात्रा के बाद गये थे।

एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि यदि उक्रेन ने पश्चिमी देशों से प्राप्त हथियारों से रूसी क्षेत्र में स्थित ठिकानों पर हमला किया, तो क्या इसे सशस्त्र आक्रमण माना जाएगा।

पुतिन ने कहा कि ऐसी स्थिति, सशस्त्र आक्रमण के बहुत क़रीब है और मॉस्को इसका विश्लेषण कर रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि रूस, उत्तर कोरिया सहित दुनिया भर में हथियारों की आपूर्ति करने का अधिकार रखता है।

हालाँकि, पुतिन ने इस बात पर ज़ोर दिया कि यह संधि सोवियत संघ और उत्तर कोरिया के बीच हुई संधि से अलग नहीं है।