इंडोनेशिया में रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या में वृद्धि

बृहस्पतिवार को संयुक्त राष्ट्र विश्व शरणार्थी दिवस है।

हाल के महीनों में इंडोनेशिया में अवैध रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या में वृद्धि देखी गयी है।

संयुक्त राष्ट्र ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से रोहिंग्या मुसलमानों को अधिक सहायता प्रदान करने का आह्वान किया है। रोहिंग्या एक जातीय अल्पसंख्यक समूह है, जिन्हें बौद्ध बहुल म्यांमार में सताया जाता है।

कई रोहिंग्या, पड़ोसी देश बांग्लादेश में शरणार्थी शिविरों में रहते हैं। शिविरों में स्थिति लगातार असुरक्षित होती जा रही है, लेकिन रोहिंग्या म्यांमार वापस नहीं लौट सकते, क्योंकि वहाँ सेना और सशस्त्र जातीय गुट आपस में लड़ रहे हैं।

ऐसी स्थिति में, फंसे हुए रोहिंग्या शरणार्थी, तस्करों की नावों पर सवार होकर इंडोनेशिया भाग रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी का कहना है कि मई में समाप्त 6 महीने की अवधि के दौरान 2,026 शरणार्थी नाव से इंडोनेशिया पहुँचे थे।

इंडोनेशिया के पश्चिमी प्रांत, आचे में लगभग 250 रोहिंग्या, एक शरणार्थी शिविर में रह रहे हैं।