भीड़ कम करने के लिए फ़ुजि पर्वत पर प्रवेश द्वार स्थापित

पर्वतारोहण के मौसम की शुरुआत से पहले फ़ुजि पर्वत पर प्रवेश द्वार बनाने का काम पूरा हो गया है। इसका उद्देश्य जापान के सबसे ऊँचे पर्वत पर आने वाले पर्वतारोहियों की संख्या को नियंत्रित करना है।

यह द्वार यामानाशि प्रीफ़ैक्चर में योशिदा मार्ग पर शिखर तक के लगभग आधे रास्ते पर स्थापित किया गया है।

इस मार्ग पर लापरवाही से चढ़ाई करना एक समस्या रही है। कुछ पर्वतारोही, पहाड़ी झोपड़ियों में आराम किये बिना रात में फ़ुजि पर चढ़ते हैं, जबकि अन्य मार्ग पर टेंट लगा देते हैं, जिनसे बाकी पर्वतारोहियों को परेशानी होती है।

1 जुलाई से, इस मार्ग का उपयोग करने वाले पर्वतारोहियों की दैनिक संख्या 4,000 तक सीमित रहेगी। शाम 4 बजे से सुबह 3 बजे तक द्वार बंद रहेगा।

इस मार्ग पर जाने वाले पर्वतारोहियों से 2,000 येन यानि लगभग 13 डॉलर का शुल्क लिया जाएगा।

द्वार का निर्माण कार्य बृहस्पतिवार को शुरू हुआ था। सोमवार को श्रमिकों ने इसे उसके परिदृश्य के साथ मेल खाते, गहरे भूरे रंग के लकड़ी के तख्तों से ढक कर निर्माण कार्य पूरा किया। यह द्वार लगभग 8 मीटर चौड़ा और 1.8 मीटर ऊँचा है।

पर्वतारोहण सत्र के उद्घाटन की तैयारी के लिए प्रीफ़ैक्चर बुधवार को इसका परीक्षण करेगा। वे अपने कार्यप्रवाह का अनुकरण करेंगे, जिसमें यह पता लगाया जाएगा कि द्वार से गुज़रते वक्त पर्वतारोहियों ने प्रवेश शुल्क का भुगतान किया है या नहीं और सुरक्षा कर्मचारियों की तैनाती की जगह सुनिश्चित करने जैसे प्रोटोकॉल निर्धारित किये जाएँगे।