जी7 नेताओं ने जारी की संयुक्त विज्ञप्ति

जी7 देशों के नेताओं ने उक्रेन, चीन और अन्य विषयों पर अपनी सहमति व्यक्त करते हुए एक विज्ञप्ति को मंज़ूरी दी है।

इटली के पूग्लिया में शुक्रवार को उनकी दो दिवसीय शिखर वार्ता संपन्न हुई।

इस विज्ञप्ति में ज़ब्त रूसी परिसंपत्तियों से प्राप्त ब्याज का उपयोग करके उक्रेन को ऋण प्रदान करने का समझौता शामिल है।

नेताओं ने यह भी पुष्टि की कि वे चीन और अन्य देशों में मौजूद उन इकाइयों के विरुद्ध आवश्यक कदम उठायेंगे जो रूस को साज़ो-सामान उपलब्ध करा कर सहायता देती हैं।

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की समुद्री गतिविधियों का उल्लेख करते हुए नेताओं ने बल प्रयोग या दबाव के ज़रिए यथास्थिति बदलने के किसी भी एकतरफ़ा प्रयास का कड़ा विरोध किया।

उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में चीन की अत्यधिक विनिर्माण क्षमता के संबंध में चिंता साझा की और अपनी प्रतिक्रिया में तालमेल बिठाने पर सहमति व्यक्त की।

जापानी अधिकारियों का कहना है कि जी7 नेता पिछले वर्ष हिरोशिमा में आयोजित शिखर सम्मेलन की उपलब्धियों को आगे बढ़ाने में सफल रहे, और उन्होंने लगातार जटिल होते विश्व में अपनी एकता की पुष्टि की।

उन्होंने कहा कि जापान विज्ञप्ति के अनुरूप योगदान देना जारी रखेगा।