80% लोग जापान की घटती जन्म दर के संभावित दुष्प्रभाव से चिंतित

एनएचके के ताज़ा सर्वेक्षण से पता चलता है कि 80 प्रतिशत से अधिक लोग, जापान की घटती जन्म दर के समाज पर पड़ने वाले प्रभाव को संकट मान रहे हैं।

एनएचके ने रविवार तक के तीन दिनों में टेलीफ़ोन पर यह सर्वेक्षण किया। इसमें 1,192 लोगों यानि कुल लक्षित लोगों में से 49 प्रतिशत से जवाब प्राप्त हुए।

पिछले सप्ताह जारी सरकारी आँकड़ों से पता चलता है कि 2023 में देश की कुल प्रजनन दर लुढ़क कर 1.20 रह गयी थी। 1947 में रिकॉर्ड रखे जाने के बाद से यह न्यूनतम है। यह आँकड़ा किसी महिला के जीवनकाल में पैदा होने वाले बच्चों की संख्या को दर्शाता है।

एनएचके के सर्वेक्षण के अनुसार, 54 प्रतिशत लोग समाज पर जन्म दर में गिरावट के प्रभाव को एक बड़ा संकट मानते हैं, जबकि 31 प्रतिशत इसे कुछ हद तक संकट मानते हैं। 6 प्रतिशत ने कहा कि वे वास्तव में चिंतित नहीं हैं और 2 प्रतिशत ने कहा कि वे बिल्कुल भी चिंतित नहीं हैं।