बाल हिंसा करने वाले देशों में शामिल हुआ इज़्रायल

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि उसने इज़्रायल को बाल अधिकारों का गंभीर उल्लंघन करने वाले देशों की वैश्विक सूची में शामिल कर दिया है, क्योंकि गाज़ा पट्टी में बच्चों की मौत का आँकड़ा लगातार बढ़ रहा है।

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफ़न दुजारिक ने शुक्रवार को एक नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में इज़्रायली दूत को बता दिया है कि उनके देश को सूची में शामिल कर दिया गया है।

संयुक्त राष्ट्र दुनिया भर में सशस्त्र संघर्षों का बच्चों पर पड़ने वाले प्रभाव की जाँच करता है ताकि वार्षिक रिपोर्ट तैयार की जा सके। इस दस्तावेज़ में बच्चों को नुकसान पहुँचाने वाले अपराधियों की सूची शामिल है। नवीनतम रिपोर्ट इस महीने के अंत में सार्वजनिक की जाएगी।

नयी सूची में पश्चिम एशिया में गृह युद्ध से त्रस्त सीरिया और यमन को भी शामिल किया गया है। उक्रेन पर आक्रमण जारी रख रहे रूस को पिछले साल इस सूची में शामिल किया गया था।

इज़्रायल के प्रधानमंत्री बेंयामिन नेतनयाहू ने संयुक्त राष्ट्र के इस निर्णय पर तीखी प्रतिक्रिया दी।

नेतनयाहू ने एक बयान में कहा, "आज संयुक्त राष्ट्र ने खुद को इतिहास की काली सूची में शामिल कर लिया है, जब वह हमास के हत्यारों का समर्थन करने वालों में शामिल हो गया है।" उन्होंने इज़्रायली सेना को "दुनिया की सबसे नैतिक सेना" कहा।

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि बुधवार तक गाज़ा में 7,797 बच्चे मारे जा चुके थे। यह आँकड़ा कुल मौतों का 30 प्रतिशत से भी अधिक है।