जापान-उक्रेन सहायता दस्तावेज़ के विवरणों का खुलासा

एनएचके को एक द्विपक्षीय दस्तावेज़ के विवरणों के बारे में पता चला है जिसमें जापान द्वारा उक्रेन को दी जाने वाली सहायता का उल्लेख है। सूत्रों के अनुसार, अगले सप्ताह होने वाले जी7 शिखर सम्मेलन से इतर, जापान की उक्रेन के साथ इस दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने की योजना है।

खबर है कि 13 जून से इटली में होने वाले जी7 शिखर सम्मेलन से इतर, प्रधानमंत्री किशिदा फ़ुमिओ और राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की के बीच वार्ता और दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर के इंतज़ाम किये जा रहे हैं।

एनएचके को ज्ञात हुआ है कि दस्तावेज़ में कहा जाएगा कि जापान, संविधान के दायरे में रहते हुए, उक्रेन को सुरक्षा और रक्षा सहायता प्रदान करना जारी रखेगा।

सहायता में गैर-घातक उपकरण और रसद की आपूर्ति, घायल उक्रेनी सैनिकों का उपचार और खुफ़िया जानकारी के क्षेत्र में सहयोग शामिल होंगे।

पुनर्निर्माण के संदर्भ में, दस्तावेज़ में यह कहा जाएगा कि जापान बारूदी सुरंगें हटाने, महिलाओं व बच्चों के लिए मानवीय स्थिति में सुधार लाने व उनके जीवन को पटरी पर लाने, तथा कृषि क्षेत्र के विकास में सहायता प्रदान करेगा।

यह दस्तावेज़ 10 वर्षों के लिए वैध होगा और उक्रेन के लिए जापान के निरंतर समर्थन की पुष्टि करेगा।

पिछले वर्ष जुलाई में जापान समेत 30 से अधिक देशों ने रूसी सैन्य कार्रवाई के बीच, उक्रेन के प्रति समर्थन के उद्देश्य से द्विपक्षीय समझौते करने का वायदा किया था। खबर है कि अब तक 15 देशों ने उक्रेन के साथ दस्तावेज़ों पर हस्ताक्षर किये हैं।