स्वच्छ व निष्पक्ष अर्थव्यवस्था लक्ष्यों पर सहमत हिंद-प्रशांत समूह

एशिया में चीन के बढ़ते प्रभुत्व का मुक़ाबला करने के लिए गठित समूह के देशों ने बृहस्पतिवार को विकार्बनीकरण में निवेश बढ़ाने और आर्थिक निष्पक्षता का लक्ष्य रखने पर सहमति व्यक्त की है।

हिंद-प्रशांत आर्थिक समृद्धि व्यवस्था के 14 देशों के मंत्रियों ने क्षेत्र में स्वच्छ तथा निष्पक्ष अर्थव्यवस्थाओं के लक्ष्यों से संबद्ध वक्तव्यों पर हस्ताक्षर किये।

भारत, जापान और अमरीका सहित सदस्य देशों के बीच नवम्बर 2023 में इन लक्ष्यों पर आम सहमति बनी थी।

इस स्वच्छ अर्थव्यवस्था संधि का लक्ष्य, सदस्य देशों से अक्षय ऊर्जा और ऊर्जा भंडारण के क्षेत्र में कम से कम 120 अरब डॉलर का निवेश करवाना है।

वहीं "निष्पक्ष अर्थव्यवस्था" संधि का लक्ष्य भ्रष्टाचार रोकना है।

सदस्य देश, क्षेत्र में अहम सामग्री की आपूर्ति शृंखला को बचाने से संबद्ध एक समझौते पर हस्ताक्षर पहले ही कर चुके हैं।

समूह का कहना है कि वह व्यापार के संबंध में भी संधि करने का प्रयास करेगा।