जाक्सा को ग्रहिका के नमूने उपलब्ध करायेगी नासा

नासा की योजना है कि वह जापान अंतरिक्ष अन्वेषण एजेंसी यानि जाक्सा को पिछले साल एक ग्रहिका से एकत्र किये गए नमूने प्रदान करेगी। जाक्सा ने उम्मीद जतायी है कि 2019 में एकत्र किये गए ग्रहिका के नमूनों से उनकी तुलना करने पर नये वैज्ञानिक परिणाम सामने आयेंगे।

ओएसआईआरआईएस-रेक्स मिशन यानि नासा की ग्रहिका नमूना वापसी परियोजना के तहत पिछले साल सितंबर में ग्रहिका बेन्नू से रेत और अन्य नमूने सफलतापूर्वक प्राप्त किये गए थे। बेन्नू, पृथ्वी और मंगल की कक्षाओं के बीच स्थित है।

नासा ने इससे पहले एक समझौते पर हस्ताक्षर किये थे कि वह नमूने एकत्र करने वाले कैप्सूल के पृथ्वी पर लौटने के एक वर्ष के भीतर जाक्सा को कुछ नमूने उपलब्ध करायेगी।

जाक्सा के शोधकर्ताओं ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया कि एजेंसी नमूनों का विश्लेषण किस प्रकार करने की योजना बना रही है।

उन्होंने बताया कि नासा इस गर्मी की शुरुआत में ही जाक्सा को लगभग 0.6 ग्राम नमूना उपलब्ध करायेगी।

उन्होंने बताया कि समूह ने हाल ही में एक क्लीन रूम स्थापित किया है, जिसमें ऐसे उपकरण लगे हैं जो जल और कार्बनिक पदार्थों का मापन और विश्लेषण नमूने को बिना नुकसान पहुँचाये कर सकते हैं।

जाक्सा का हायाबुसा2 यान, 2020 में रियूगू ग्रहिका से नमूने लेकर पृथ्वी पर आया था।

जाक्सा के एस्ट्रोमटेरियल्स साइंस रिसर्च समूह में विशेष रूप से नियुक्त प्रोफ़ेसर ताचिबाना शोगो ने कहा कि दोनों ग्रहिकाओं के नमूनों में जल और कार्बनिक पदार्थ मौजूद हैं, लेकिन उनमें अंतर भी हैं।

उन्होंने कहा कि वह इस विश्वास के साथ नमूनों का विश्लेषण करने के लिए उत्सुक हैं कि "एक और एक का योग, दो से बेहतर परिणाम देगा।"