डब्ल्यूएमओ - वैश्विक तापमान 1.5 डिग्री की सीमा पार करने की 80% संभावना

विश्व मौसम विज्ञान संगठन यानि डब्ल्यूएमओ का कहना है कि 80 प्रतिशत संभावना है कि पाँच वर्षों के भीतर औसत वैश्विक तापमान, "अस्थायी रूप से" पूर्व-औद्योगिक स्तर से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक हो जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र के इस निकाय ने बुधवार को विश्व भर के मौसम प्राधिकरण के आँकड़ों के आधार पर 2024 से 2028 के बीच वैश्विक जलवायु की स्थिति और पूर्वानुमान के विश्लेषण के परिणाम जारी कियेे।

रिपोर्ट का अनुमान है कि प्रत्येक पाँच वर्षों में वैश्विक औसत सतही तापमान, वर्ष 1850 से 1900 के बीच के औसत तापमान से 1.1 डिग्री से 1.9 डिग्री अधिक होगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 86 प्रतिशत संभावना है कि 2024 से 2028 के बीच, कम से कम एक वर्ष नया तापमान रिकॉर्ड बनेगा, जो 2023 के रिकॉर्ड को तोड़ देगा, जब यह आँकड़ा पूर्व-औद्योगिक बेस-लाइन से 1.45 डिग्री अधिक था।

ग़ौरतलब है कि 2015 के पेरिस समझौते के पक्षों का लक्ष्य औसत तापमान में वृद्धि को 1.5 डिग्री तक सीमित रखना है।

डब्ल्यूएमओ का कहना है कि अल्पकालिक तापमान वृद्धि का मतलब पेरिस समझौते के लक्ष्य का स्थायी उल्लंघन नहीं है। लेकिन उसका कहना है कि अगले पाँच वर्षों में से कम से कम एक वर्ष में तापमान 1.5 डिग्री से अधिक होने की संभावना 2015 से लगातार बढ़ रही है।