साम्राज्ञी मासाको ने किया शाही परम्परा का पालन

जापान की साम्राज्ञी मासाको ने शाही परिवार के एक पारम्परिक कार्यक्रम में हिस्सा लेकर रेशम के कीड़ों को शहतूत के पत्ते खिलाये।

19वीं सदी के उत्तरार्ध से जापान की साम्राज्ञियों ने रेशम उत्पादन की परम्परा को आगे बढ़ाया है।

साम्राज्ञी मंगलवार को तोक्यो के शाही महल परिसर में स्थित रेशम के कीड़ों के पालन केन्द्र गयीं। उन्होंने घरेलू प्रजाति के रेशम के कीड़े, "कोइशिमारु" को शहतूत के पत्ते खिलाये। ये कीड़े अब लगभग तीन सेंटीमीटर लंबे हो गए हैं।

शाही परिवार एजेंसी के अधिकारियों का कहना है कि साम्राज्ञी कीटों को पत्तियों के नीचे से तुरंत निकलते देख कर बहुत प्रसन्न हुईं।

अधिकारियों का कहना है कि साम्राज्ञी कोया एकत्रित करेंगी।

एजेंसी का कहना है कि इस पालन केन्द्र में उत्पादित रेशम का उपयोग विदेशी गणमान्य अतिथियों के लिए उपहार बनाने में किया जाएगा।