नये नोट आने से पहले तैयारियों में जुटे उद्योग

जापान 20 वर्षों में पहली बार अपनी कागज़ी मुद्रा का डिज़ाइन बदलने जा रहा है। ये 3 नये नोट 3 जुलाई से प्रचलन में आएँगे, जिसे देखते हुए विभिन्न उद्योग अपनी मशीनों में बदलाव कर रहे हैं ताकि उनकी मशीनें नये नोट स्वीकार कर सकें।

वित्त मंत्रालय के सर्वेक्षण से ज्ञात हुआ है कि 90 प्रतिशत से अधिक एटीएम मशीनें 3 जुलाई तक नये नोटों के लिए तैयार हो जाएँगी।

80 से 90 प्रतिशत ट्रेन-टिकट मशीनें और प्रमुख कंवीनियंस स्टोर्स के कैशियर काउंटर भी नये नोटों के आने तक तैयार हो जाएँगे।

लेकिन पार्किंग की स्वचालित चेकआउट मशीनों और रेस्त्राँ की टिकट मशीनों में से क़रीब आधी ही नये नोट संभाल पायेंगी।

पेय पदार्थ बेचने वाली वेंडिंग मशीनों में से 20 से 30 प्रतिशत में ही समय पर बदलाव किया जा सकेगा।

छोटे और मझौले कारोबारी इस बदलाव की उच्च लागत को लेकर शिक़ायत करते आये हैं और कुछ स्थानीय सरकारें इसके लिए सब्सिडी की पेशकश भी कर रही हैं।

नये नोट लाने का मक़सद, नोटों की जालसाज़ी को कठिन बनाना और उन्हें आकर्षक बनाना है।