उक्रेन को अतिरिक्त सैन्य सहायता प्रदान कर रहे हैं यूरोपीय देश

यूरोपीय देश, उक्रेन को दी जाने वाली सैन्य सहायता का दायरा बढ़ा रहे हैं, क्योंकि रूसी सेना उक्रेन के पूर्वी क्षेत्रों पर अपना आक्रमण तेज़ कर रही है।

स्वीडन ने बुधवार को कहा कि वह उक्रेन की वायु रक्षा क्षमता को मज़बूत करने के लिए 1.16 अरब यूरो यानि लगभग 1.26 अरब डॉलर की अतिरिक्त सहायता प्रदान करेगा।

स्वीडन की ओर से अब तक के सबसे बड़े सैन्य सहायता पैकेज में टोही और नियंत्रण विमान शामिल हैं, जो हवा या समुद्र में दूरस्थ लक्ष्यों की पहचान करने में सक्षम हैं।

ब्रिटेन के समाचार पत्र, द गार्डियन की रिपोर्ट के अनुसार "सोवियत संघ के पतन के बाद यह पहली बार होगा जब उक्रेनी सेना ऐसे उपकरणों से लैस होगी।"

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह विमान, उक्रेन को अपने सहयोगियों से प्राप्त होने वाले एफ़-16 लड़ाकू विमानों को सूचना भेज सकता है।

उक्रेनी मीडिया भी इस सहायता के महत्त्व पर ज़ोर दे रही है। उसका कहना है कि देश की सेना को अब तक ज़मीनी रडार प्रणालियों के ज़रिए वायु क्षेत्र की निगरानी करनी पड़ती थी।

वहीं, जर्मनी के रक्षा मंत्री बोरिस पिस्तोरियस ने बृहस्पतिवार को उक्रेन के लिए लगभग 54 करोड़ डॉलर के नये सैन्य सहायता पैकेज की घोषणा की।

इस पैकेज में वायु रक्षा के लिए मिसाइलें, काला सागर पर टोही मिशन के लिए ड्रोन, तथा तोपखाने के लिए स्पेयर पार्ट शामिल हैं, जो पहले ही उपलब्ध करा दिये गए हैं।