बाइडन ने किया इज़्रायल के गाज़ा संघर्षविराम प्रस्ताव का ख़ुलासा

अमरीका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने गाज़ा पट्टी में मुस्लिम गुट हमास के साथ जारी संघर्ष को रोकने के उद्देश्य वाले नये इज़्रायली प्रस्ताव का ख़ुलासा किया है। इस प्रस्ताव पर हमास ने भी सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है।

बाइडन ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस में यह कहते हुए 3 चरणों वाली इस योजना का ख़ुलासा किया कि "इस युद्ध को समाप्त करने का समय आ गया है।"

बाइडन ने बताया कि पहला चरण कई सप्ताह चलेगा। इसमें "पूर्ण एवं स्थायी" संघर्षविराम, गाज़ा के आबादी वाले सभी इलाक़ों से इज़्रायली सैनिकों की वापसी, फ़िलीस्तीनी क़ैदियों की रिहाई के बदले में महिला, बुज़ुर्ग और घायल बंधकों की वापसी शामिल होगी।

बाइडन के अनुसार दूसरे चरण में शत्रुता को हमेशा के लिए समाप्त करने के बदले में बाक़ी बचे सभी बंधकों को छोड़ा जाएगा।

बाइडन का कहना है कि तीसरे चरण में एक बड़ी पुनर्निर्माण योजना शुरू की जाएगी।

राष्ट्रपति बाइडन का यह भी कहना है कि क़तर के मध्यस्थों ने हमास को इज़्रायली प्रस्ताव से अवगत करा दिया है।

उनका कहना है कि इस प्रस्ताव ने "इज़्रायलियों और फ़िलीस्तीनियों के बेहतर भविष्य के लिए राजनैतिक सुलह-सफ़ाई का मंच तैयार कर दिया है।"

हमास ने भी शुक्रवार को कहा कि वह बाइडन के इन कथनों से वाकिफ़ है। हमास का कहना है कि यदि इज़्रायल, स्थायी संघर्षविराम, गाज़ा से इज़्रायली सैनिकों की वापसी, पुनर्निर्माण, विस्थापितों की वापसी और क़ैदियों की पूर्ण अदला-बदली जैसी शर्तों वाले किसी समझौते को मानने का स्पष्ट वचन देता है, तो हमास भी उस पर "सकारात्मक और रचनात्मक" प्रतिक्रिया देने के लिए तैयार है।

उधर, इज़्रायली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतनयाहू के कार्यालय ने वक्तव्य जारी कर कहा कि प्रधानमंत्री ने वार्ताकार दल को बंधकों की रिहाई से जुड़ी रूपरेखा पेश करने का अधिकार दिया है। साथ ही उन्होंने बल देते हुए कहा है कि जब तक सभी बंधकों की रिहाई और हमास की सैन्य तथा शासकीय क्षमता के उन्मूलन सहित सभी लक्ष्य हासिल नहीं कर लिये जाते, तब तक युद्ध नहीं रुकेगा।

वक्तव्य में कहा गया है कि शर्तों के साथ चरणबद्ध बदलाव सहित इज़्रायल की प्रस्तावित रूपरेखा उसे ये सिद्धांत बनाये रखने की अनुमति देती है।