रूस - पहली तिमाही में 5.4% की दर से बढ़ी जीडीपी

रूस के अधिकारियों का कहना है कि इस वर्ष की पहली तिमाही में देश का सकल घरेलू उत्पाद वास्तविक मायनों में एक वर्ष पहले की तुलना में 5.4 प्रतिशत बढ़ा।

राष्ट्रीय सांख्यिकी सेवा यानि रोसस्टैट ने शुक्रवार को जनवरी-मार्च तिमाही के प्रारंभिक जीडीपी आँकड़े जारी किये।

वार्षिक आधार पर यह अर्थव्यवस्था में लगातार चौथी तिमाही की वृद्धि है।

कुछ विश्लेषकों का कहना है कि इससे रूसी अर्थव्यवस्था के लचीलेपन का पता चलता है, जिसमें उक्रेन पर देश के आक्रमण और पश्चिमी देशों द्वारा लगाये गए आर्थिक प्रतिबंधों के बाद 2022 में 1.2 प्रतिशत तक का संकुचन आ गया था।

2023 में रूसी अर्थव्यवस्था में वार्षिक आधार पर 3.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी थी।

अमरीका के कॉर्नेल विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफ़ेसर और रूसी अर्थव्यवस्था के विशेषज्ञ निकोलस मल्डर ने रूस के रक्षा उद्योग को इस वृद्धि का एक संभावित कारक बताया है।

उनके अनुसार "पुतिन ने हाल ही में दावा किया था कि युद्ध शुरू होने के बाद से 5,00,000 नये श्रमिक इस उद्योग से जुड़े हैं।"

विशेषज्ञ का कहना है कि "अब जब ये श्रमिक ज़्यादा पैसे कमा रहे हैं, तो अर्थव्यवस्था के अन्य क्षेत्र भी लाभांवित हो रहे हैं।"

विशेषज्ञ के अनुसार युद्ध लड़ने के लिए आवश्यक भारी सैन्य ख़र्च ने संभवतः अर्थव्यवस्था को कुछ देर के लिए बढ़ावा दिया है।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का अनुमान है कि इस वर्ष रूस की जीडीपी वार्षिक आधार पर 3.2 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी।